Categories
Ghazal

Fida Kar Jaan Agar Jani Yahi Hai.

फ़िदा कर जान अगर जानी यही है,
अरे दिल वक़्त-ए-बे-जानी यही है.

यही क़ब्र-ए-ज़ुलेख़ा सीं है आवाज़,
अगर है यूसुफ़-ए-सानी यही है.